अफगानिस्तान में नहीं होगा आईपीएल का प्रसारण, तालिबान ने बतायी ये वजह

नई दिल्ली. करीब 20 साल बाद पुनः काबुल की गद्दी पर काबिज हुआ कट्टरपंथी समूह तालिबान ने धीरे – धीरे अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है। अपनी मध्ययुगीन सोच को तिलांजलि देने की बात करने वाले इस चरमपंथी समूह ने एक ऐसा फैसला लिया है, जिससे उसके कथनी और करनी में साफ अंतर नजर आने लगा है। तालिबान ने भारत में खेले जाने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के प्रसारण पर प्रतिबंध लगा दिया है। तालिबान ने अपने इस कदम के पीछे टूर्नामेंट में शामिल चीयरलीडर्स और स्टेडियमों में महिला दर्शकों की मौजूदगी को बताया है। तालिबान ने इस बाबत अफगान मीडिया आउटलेट्स को कड़ी चेतावनी दी है।

दरअसल आईपीएल भारत की तरह अफगानिस्तान में भी काफी पसंद किया जाता है। आईपीएल ने वहां के कई क्रिकेटरों की किस्मत बदली है। ऐसे में अफगान क्रिकेचप्रेमियों के लिए ये एक बड़ा झटका है। वहीं तालिबान के इस फैसले ने एकबार फिर महिलाओं के प्रति उसके उस नजरिए को उजागर कर दिया है, जिसे वो बदलने की बात करता है। बीते हफ्ते अफगानिस्तान के नए खेल प्रमुख ने कहा कि तालिबान 400 खेलों की अनुमति देगा – लेकिन इस बात की पुष्टि करने से इनकार कर दिया कि क्या महिलाएं एकल खेल सकती हैं। ऐसे में तालिबान शासन के बाद अफगान महिला खिलाड़ियों का भविष्य अधर में पड़ चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *